रविवार, 7 सितंबर 2014

तुमको लिख दूं? या रहने दूं..

पंशु


भीतर भीतर, सबसे छुपकर,
कुछ गाता तो हूं गुन गुनकर,
एक गीत कोई अमराई का,
संगीत किसी पुरवाई सा,

सांसों की चंचल छोर सही,
रुकती, बहती सी भोर सही,
सब कह दूं या रहने दूं?
तुमको लिख दूं? या रहने दूं..

संताप सहूं निष्पाप कहूं,
नवजीवन की पदचाप कहूं,

अधरों सी होती भोर दिखी,
उन्नत अवनत की छोर दिखी,

नभ गरजेगा, तम बरसेगा,
मन तृप्त हुआ क्यूं तरसेगा,
संबल कह दूं, या रहने दूं?
तुमको लिख दूं? या रहने दूं..

कातिक की पहली ओस कहूं,
या सावन का घनघोर कहूं,

शीतलता की दहक लिखूं,
केशों की रसती महक लिखूं,

यह श्लोक नहीं मनु स्मृति का,
आलोक यही है सहमति का,
परिणय रच दूं, या रहने दूं?
तुमको लिख दूं? या रहने दूं..

07092014


Pic & Text © Pankaj Shukla। 2014